पहचान

कहाँ से आयें ये सपने इन आँखों में मैंने कभी सोचा ही नहीं

कब कैसे यह हो गए मेरे मैंने कभी सोचा ही नहीं

मंजिलें अभी भी बहुत दूर हैं पर दिखाई देती हैं

यह क्या कम है की उन तक पहुचने का रस्ता मालूम तो है

उड़ने दो मुझे,छूने दो उचाइयां इस आकाश की

न काँटों मेरे पंखो को,न तोड़ो मेरे सपनो को,यही तो है मेरी पहचान हैं

वरना मैं क्या हूँ इनके बिना,एक मामूली इन्सान ही तो हूँ
Advertisements

18 thoughts on “पहचान

    1. don’t know whether it qualifies to be called as a poem or not but yeah the way isn’t difficult if the destination is known 🙂

  1. Loved it. 🙂
    This is so like what I keep telling the OH – ‘Don’t EVER take my dreams away from me. I am nothing without them. I might be alive without them, but I’ll be dead.’

    whatta a way to express it!!!

C'mon,out with it,right here :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s